boxer-amit-panghal

Tokyo Olympics : दुनिया के नंबर वन बॉक्सर हैं अमित पंघाल, इनसे है गोल्ड की उम्मीद

खेल, मुख्य समाचार

Updated : 20 Jul 2021,

Tokyo Olympics: टोक्यो ओलंपिक में बॉक्सिंग में देश को सबसे ज्यादा मेडल की उम्मीद हैंमहिलाओं में जहां एमसी मैरीकोम पदक की प्रबल दावेदार हैं वहीं पुरुषों में अमित पंघाल से देश को गोल्ड की लाने की उम्मीद होगी. 52 किलोग्राम वेट कैटेगरी में अमित इस समय दुनिया के नंबर वन खिलाड़ी हैंवह ओलंपिक जाने वाले भारत के पहले बॉक्सर हैं जिनकी अपनी कैटेगरी में नंबर वन रैंक हैअमित पंघाल अपने बड़े भाई अजय पंघाल को अपनी सफलता का श्रेय देते हैं और उन्हें अपना सबसे अच्छा कोच भी मानते हैं

अमित पंघाल हरियाणा के रोहतक जिले में एक किसान परिवार से आते हैंपहले वो 48 किलोग्राम वेट कैटेगरी में खेलते थेइंटरनेशनल बॉक्सिंग एसोसीएशन (AIBA) ने जब 48 किलोग्राम वेट कैटेगरी को ओलंपिक से हटाने का फैसला लिया तब पंघाल ने 52 किलोग्राम वेट कैटेगरी में शिफ्ट कर लियाअपने दमदार पंचों से पंघाल दिग्गजों को मात देने में सक्षम हैइसी साल एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप के फाइनल में मिली अप्रत्याशित हार को भुलाकर वो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने के लिए प्रतिबद्ध नजर आ रहे हैं.

एशियाई चैंपियनशिप के फाइनल में हार से हुआ हूं और मजबूत– पंघाल 

पंघाल के अनुसार एशियाई चैंपियनशिप के फाइनल में मिली हार ने उन्हें और मजबूत बनाया हैपंघाल यहां फाइनल में मौजूदा ओलंपिक एवं विश्व चैंपियन (2019) उज्बेकिस्तान के मुक्केबाज जोइरोव शाखोबिदीन से हार गए थेउन्होंने कहा, “जो बीत गया उस बारे में अब मैं ज्यादा नहीं सोच रहा हूंअब मेरा पूरा ध्यान टोक्यो पर हैअगर टोक्यो में हम दोनों का आमना सामना होता है तो मैं उन्हें हरा दूंगाउसकी रैंकिंग पांचवीं हैऐसे में क्वार्टर फाइनल या सेमीफाइनल में हमारा मुकाबला हो सकता हैएशियाई चैंपियनशिप की कसक को मैं ओलंपिक में जरूर पूरा करूंगा.”

साथ ही पंघाल ने कहा, “मुझे अपने प्रदर्शन पर पूरा भरोसा है और मैं ओलंपिक में देश के लिए मेडल जरुर लाउंगालेकिन मुझे दुआओं की भी जरूरत हैमैं जानता हूं कि देश के सभी लोगों की दुआएं मेरे और दल के अन्य खिलाड़ियों के साथ हैं.”

प्रतिष्ठित स्ट्रांदजा मेमोरियल में लगातार दो स्वर्ण जीतने वाले एकमात्र भारतीय 

अमित पंघाल ने 2017 में नैशनल बॉक्सिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता थाउसके बाद इसी साल एशियन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतते ही वो सुर्खियों में आ गएउन्होंने बुल्गारिया में प्रतिष्ठित स्ट्रांदजा मेमोरियल में स्वर्ण पदक हासिल किया और फिर वह 2018 में एशियाई चैम्पियन भी बनेबता दें कि यूरोप के सबसे पुराने और प्रतिष्ठित प्रतियोगिता स्ट्रांदजा मेमोरियल में लगातार दो बार स्वर्ण पदक हासिल करने वाले पंघाल इकलौते भारतीय मुक्केबाज हैं. 49 किलोग्राम वर्ग के ओलंपिक कार्यक्रम से हटने के बाद 2018 में उन्होंने 52 किग्रा में खेलने का फैसला किया.

सितंबर 2019 में AIBA वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पीयन्शिप में पंघाल ने सिल्वर मेडल अपने नाम कियावो इस प्रतियोगिता में में ये उपलब्धि हासिल करने वाले पहले भारतीय हैंपंघाल इसके अलावा 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में रजत और 2020 के बॉक्सिंग विश्व कप में भी गोल्ड मेडल जीत चुके हैं. 2019 से ही एआईबीए AIBA की रैंकिंग में वो शीर्ष स्थान पर हैं.

बड़े भाई अजय को मानते हैं अपना सबसे अच्छा कोच 

अमित पंघाल के पिता विजेंदर सिंह पेशे से किसान हैंवहीं उनके बड़े भाई भारतीय सेना में हैंवो अपनी सफलता का श्रेय अपने बड़े भाई को देते हैं जिन्होंने उन्हें बॉक्सर बनने के लिए प्रेरित कियाउन्होंने कहा, “मेरे बड़े भाई अजय को मेरी सफलता का श्रेय जाता हैवो मेरे सबसे अच्छे कोच हैंमैं कोशिश करता हूं कि हर मुकाबले से पहले अपनी रणनीति को लेकर मैं उनसे बात करूंवो खुद भी एक बेहतरीन बॉक्सर रहे हैं.” 

Leave a Reply