AIADMK SR Balasubramaniam

राज्यसभा : पिछले 7 सत्रों में सिर्फ 1 सांसद की रही 100 फीसदी हाजिरी

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय

LAST UPDATED : 

नई दिल्ली. राज्यसभा (Rajya Sabha) सचिवालय की ओर से किए गए अध्ययन में पाया गया है कि 78 प्रतिशत राज्यसभा सदस्यों ने रोजाना सदन की चर्चा में हिस्सा लिया है. संसद के ऊपरी सदन में सांसदों की उपस्थिति संबंधित इस अध्ययन में पाया गया कि अन्नाद्रमुक (AIADMK) के सांसद एसआर बालासुब्रमनियम (SR Balasubramaniam) ने राज्यसभा की प्रत्येक कार्यवाही में हिस्सा लिया है और उनकी उपस्थिति नियमित रही है. 75 वर्षीय अन्नाद्रमुक सांसद ने राज्यसभा के पिछले 7 सत्रों की सभी 138 बैठकों में हिस्सा लिया है.

 

वहीं सदन के 30 फीसदी सदस्यों की एक सत्र में पूरी उपस्थिति रही है, और केवल दो फीसदी से कम लोगों की अटेंडेंस जीरो रही है. राज्यसभा के पांच सदस्यों – अशोक बाजपेई, डीपी वत्स, नीरज शेखर, विकास महात्मे और रामकुमार वर्मा – पिछले 6 सत्रों की सभी बैठकों में उपस्थित रहे हैं. वहीं सात सदस्यों – राकेश सिन्हा, सुधांशु त्रिवेदी, डॉ कैलाश सोनी, नरेश गुजराल, विश्वंबर प्रसाद निषाद, कुमार केतकर और अमी याज्ञनिक – पिछले 5 सत्रों में रेगुलर रहे हैं. इनकी पूरी उपस्थिति रही है.

राज्यसभा सदस्यों की उपस्थिति संबंधी अध्ययन पहली बार किया है, चेयरमैन वेंकैया नायडू ने सदस्यों की उपस्थिति का पैटर्न जानने के लिए सदन की कार्यवाही में उनकी उपस्थिति का आकलन करने के लिए अध्ययन करवाया है. हालांकि मंत्रियों, डिप्टी चेयरमैन, सदन के नेता और सदन में विपक्ष के नेता को उपस्थिति रजिस्टर में हस्ताक्षर करने की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन सदन के 225 सदस्यों के लिए मेंबर ऑफ पार्लियामेंट कानून के तहत प्रतिदिन अपनी उपस्थिति रजिस्टर में मार्क करनी होती है.

अध्ययन में पाया गया कि राज्यसभा में सांसदों की सबसे ज्यादा दैनिक उपस्थिति 254वें सत्र यानी पिछले मानसून सत्र के दौरान 82.57 फीसदी रही, जबकि इसी सत्र में सबसे कम उपस्थिति 72.88 प्रतिशत भी दर्ज की गई है.

 

इस दौरान 29.14 फीसदी सांसदों ने अपनी पूरी उपस्थिति दर्ज कराई, जबकि केवल 1.09 फीसदी सांसदों ने सदन की कार्यवाही में कभी भी भाग नहीं लिया है. ये लोग अलग-अलग कारणों से सदन में अनुपस्थित रहे और सदन की ओर से इन्हें अवकाश दिया गया. अध्ययन में यह भी पाया गया है कि कोरोना महामारी का सदन के पिछले तीन सत्रों में सांसदों की उपस्थिति पर कोई खास फर्क नहीं पड़ा है.

पहली बार कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए राज्यसभा के 252वें सत्र में कुल 99 सदस्यों ने सभी दस बैठकों में हिस्सा लिया. वहीं 98 सदस्यों ने 254वें सत्र की सभी 17 बैठकों में हिस्सा लिया.

Leave a Reply