narendra-giri-anand-giri

शिष्य आनंद गिरि ने महंत नरेंद्र गिरि की मौत को बताया बड़ा षड्यंत्र, बोले- गुरुजी खुदकुशी नहीं कर सकते

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय

Updated: 21 सितम्बर, 2021 ,

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के प्रयागराज (Prayagraj) में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि (Narendra Giri) का निधन हो गया है. पुलिस को बाघंबरी मठ (Baghambari Muth) के महंत नरेंद्र गिरि के कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला है. पुलिस के मुताबिक सुसाइड नोट में उनके शिष्य आनंद गिरि (Anand Giri) का नाम भी है. नरेंद्र गिरि के शिष्य आनंद गिरि पर प्रयागराज में नरेंद्र गिरि को सुसाइड के लिए मजबूर करने का केस दर्ज हो गया है. नरेंद्र गिरी के निधन को लेकर आनंद गिरि ने कहा है कि यह बहुत बड़ा षड्यंत्र है.

आनंद गिरि ने नरेंद्र गिरी के निधन को साजिश बताते हुए कहा कि गुरुजी को ब्लैकमेल किया गया. उन्होंने कहा कि मैं गुरुजी की हैंड राइटिंग पहचानता हूं, उन्होंने कभी भी जीवन में लैटर नहीं लिखा. साथ ही आनंद गिरी ने कहा कि गुरुजी खुदकुशी नहीं कर सकते. जो इसके पीछे है, वह बाहर आना जरूरी है.

साथ ही आनंद गिरि ने अपने गुरु नरेंद्र गिरि के साथ विवाद को लेकर भी अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि हम गुरु-शिष्य के बीच कोई विवाद नहीं रहा. हालांकि कुछ दिनों पहले उनका अपने गुरु नरेंद्र गिरि के साथ एक वीडियो सामने आया था, जिसमें आनंद गिरि अपने गुरु नरेंद्र गिरि के पैर पकड़कर माफी मांगते नजर आए थे.

नरेंद्र गिरि के निधन के बाद नगर पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार सिंह ने बताया था कि महंत की मृत्यु फांसी लगने से हुई है. हालांकि उन्होंने इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी थी.

महंत नरेंद्र गिरि के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव सहित कई लोगों ने अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं.

 

Leave a Reply