gujarat-new-chief-minister-name

Gujarat: कौन होगा नया मुख्यमंत्री ?

अन्य प्रदेश से, प्रदेश, मुख्य समाचार

Updated on: September 12, 2021,

Gujarat New Chief Minister: गुजरात में मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के त्यागपत्र के बाद आज नए मुख्यमंत्री का नाम सामने आ सकता है। भारतीय जनता पार्टी के विधायक दल की आज दोपहर 2 बजे बैठक होनी है और इसी बैठक में विधायक दल का नया नेता चुना जाएगा जो गुजरात का अगला मुख्यमंत्री होगा। आज नए विधायक दल के नेता को चुने जाने के लिए भारतीय जनता पार्टी की तरफ से सभी विधायकों को अहमदाबाद पहुंचने का निर्देश दिया गया है। विजय रुपाणी ने रविवार को मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया था।

अमित शाह पहुंच सकते हैं अहमदाबाद

गुजरात भाजपा विधायक दल की बैठक से पहले भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय इकाई की तरफ से पर्यवेक्षक के तौर पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर तथा प्रल्हाद जोशी पार्टी नेताओं के साथ बैठक करेंगे, नरेंद्र सिंह तोमर और भाजपा नेता तरुण चुग गुजरात पहुंच गए हैं। इनके अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी आज अहमदाबाद पहुंच रहे हैं, हालांकि आधिकारिक तौर पर अमित शाह के पहुंचने की जानकारी अभी नहीं दी गई है। ऐसी संभावना है कि एक मुख्यमंत्री तथा 2 उप मुख्यमंत्री के फार्मूले के तहत नई टीम का गठन हो सकता है।

गुजरात के सीएम पद की रेस में जानिए कौन-कौन है

बड़ा सवाल यह है कि विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए बीजेपी अब किसे गुजरात का मुख्यमंत्री बनाती है। अटकलें कई नामों पर हैं लेकिन आधिकारिक तौर पर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन पटेल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, गुजरात के पूर्व गृह राज्य मंत्री गोरधन जडाफिया, गुजरात बीजेपी अध्यक्ष सीआर पाटील, बीजेपी विधायक आरसी फालदू और लक्षद्वीप दमन-दीव के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल का नाम भी चर्चा में है। बता दें कि, मनसुख मंडाविया गुजरात से बीजेपी के राज्यसभा सांसद हैं। 49 साल के मनसुख मांडविया करीब 2 दशक से राजनीति में सक्रिय हैं।

नितिन पटेल का नाम सबसे आगे

सूत्रों के मुताबिक, नितिन पटेल का नाम सबसे आगे चल रहा है। नितिन पटेल 5 अगस्त 2016 को गुजरात के डिप्टी सीएम बने थे। बता दें कि, नितिन पटेल को  गुजरात सरकार में साल 2001 में वित्त मंत्री बनाया गया था। नितिन पटेल 6 बार के विधायक हैं और तीन दशक का उनका राजनीतिक करियर है। 1990 में पहली बार गुजरात विधानसभा से विधायक बने थे, नितिन पटेल उत्तरी गुजरात के रहने वाले हैं।

गुजरात के अगले मुख्यमंत्री के तौर पर नितिन पटेल, मांडविया के नामों को लेकर अटकलें 

विजय रूपाणी के इस्तीफे के बाद गुजरात के नए मुख्यमंत्री को लेकर कयासों का दौर शुरू हो गया है। इनमें उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल, राज्य के कृषि मंत्री आर सी फल्दू और केंद्रीय मंत्री पुरषोत्तम रूपाला एवं मनसुख मांडविया के नामों की अटकलें लगाई जा रही हैं। रूपाणी ने राज्य में विधानसभा चुनाव से करीब सवा साल पहले बगैर कोई विशेष कारण बताए मुख्यमंत्री पद से शनिवार को इस्तीफा दे दिया। भाजपा के एक नेता ने बताया, ‘पटेल, फल्दू, रूपाला और मांडविया के नामों की चर्चा चल रही है। लेकिन यह कहना असंभव है कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा क्योंकि इस बारे में फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे।’

उल्लेखनीय है कि आनंदीबेन पटेल ने जब अगस्त 2016 में मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था, तब यह कहा जा रहा था कि पटेल उनके उत्तराधिकारी होंगे, लेकिन आखिरी क्षणों में लिये गये एक फैसले में रूपाणी को इस शीर्ष पद के लिए चुन लिया गया। रूपाणी के इस्तीफे के बाद नितिन पटेल को अगला मुख्यमंत्री बनाने की मांग सोशल मीडिया पर जोरशोर से शुरू हो गई। वहीं, पटेल की तरह ही प्रभावशाली पाटीदार समुदाय से आने वाले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मांडविया को भी मुख्यमंत्री पद की दौड़ में आगे माना जा रहा है। समुदाय के नेताओं ने हाल ही में यह मांग की थी कि अगला मुख्यमंत्री एक पाटीदार (समुदाय से) होना चाहिए।

सूत्रों ने बताया कि प्रदेश भाजपा प्रमुख सी आर पाटिल को मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं माना जा रहा है। वह मूल रूप से महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। सूत्रों ने कहा कि भाजपा ने पिछले विधानसभा चुनाव से एक साल पहले आनंदीबेन पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटा दिया था। उन्होंने कहा कि रूपाणी के साथ भी ऐसा ही किया गया और उनके उत्तराधिकारी दिसंबर 2022 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में पार्टी का नेतृत्व कर सकते हैं।

रूपाणी के इस्तीफा कारणों का अभी पता नहीं

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य में विधानसभा चुनाव होने से लगभग सवा साल पहले शनिवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। यह अभी स्पष्ट नहीं है कि रूपाणी ने किन कारणों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य के मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है, जहां 182 सदस्यीय विधानसभा के लिये चुनाव अगले साल दिसंबर में होने हैं। रूपाणी (65) ने दिसंबर 2017 में दूसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। इस्तीफे की वजह पूछने पर रूपाणी ने कहा, ‘भाजपा में पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए यह रिले रेस की तरह है। इसमें एक कार्यकर्ता दूसरे को मशाल सौंपता है।’ राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि पार्टी इस बारे में फैसला करेगी। उन्होंने प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष सी आर पाटिल के साथ मतभेदों की बात को खारिज कर दिया।

इस्तीफा देने के बाद रूपाणी बोले- आगे मेरी पार्टी जो काम देगी, मैं करुंगा

रूपाणी ने शनिवार को राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मिलकर अपना इस्तीफा सौंपने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने गुजरात के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है।’ उन्होंने कहा, ‘मुझे पांच साल तक राज्य की सेवा करने का अवसर दिया गया। मैंने राज्य के विकास में योगदान दिया। आगे मेरी पार्टी जो काम देगी, मैं करुंगा।’ रूपाणी ने कहा, ‘भाजपा में यह परंपरा है कि पार्टी कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारियां समय-समय पर बदलती हैं। पार्टी भविष्य में मुझे जो भी जिम्मेदारी देगी, मैं उसे लेने को तैयार रहूंगा।’ उन्होंने कहा, ‘मुझ जैसे सामान्य कार्यकर्ता को मुख्यमंत्री के रूप में राज्य की जनता की सेवा करने का यह अवसर देने के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त करता हूं।’

पाटीदार समुदाय से हो सकता है गुजरात का अगला सीएम!

रूपाणी जैन समुदाय से आते हैं, जिसकी राज्य में करीब दो प्रतिशत आबादी है। इस तरह की अटकलें हैं कि उनका उत्तराधिकारी पाटीदार समुदाय से हो सकता है। रूपाणी पहली बार सात अगस्त, 2016 को मुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने तत्कालीन मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के इस्तीफे के बाद यह पद संभाला था। उन्होंने 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद दूसरी बार राज्य की बागडोर संभाली। इस साल सात अगस्त को मुख्यमंत्री के रूप में पांच साल पूरा करने वाले रूपाणी शनिवार को सरदारधाम भवन के उद्घाटन में उपस्थित थे, जिसमें मोदी ने ऑनलाइन शिरकत की।

 

Leave a Reply